" quality="high" wmode="transparent"

Sunday, May 10, 2009

मात्रु दिवस मदर डे

माँ-बाप को भूलना नहीं
भूलो सभी को मगर, माँ-बाप को भूलना नहीं।
उपकार अगणित हैं उनके, इस बात को भूलना नहीं।।
पत्थर पूजे कई तुम्हारे, जन्म के खातिर अरे।
पत्थर बन माँ-बाप का, दिल कभी कुचलना नहीं।।
मुख का निवाला दे अरे, जिनने तुम्हें बड़ा किया।
अमृत पिलाया तुमको जहर, उनको उगलना नहीं।।
कितने लड़ाए लाड़ सब, अरमान भी पूरे किये।
पूरे करो अरमान उनके, बात यह भूलना नहीं।।
लाखों कमाते हो भले, माँ-बाप से ज्यादा नहीं।
सेवा बिना सब राख है, मद में कभी फूलना नहीं।।
सन्तान से सेवा चाहो, सन्तान बन सेवा करो।
जैसी करनी वैसी भरनी, न्याय यह भूलना नहीं।।
सोकर स्वयं गीले में, सुलाया तुम्हें सूखी जगह।
माँ की अमीमय आँखों को, भूलकर कभी भिगोना नहीं।।
जिसने बिछाये फूल थे, हर दम तुम्हारी राहों में।
उस राहबर के राह के, कंटक कभी बनना नहीं।।
धन तो मिल जायेगा मगर, माँ-बाप क्या मिल पायेंगे?
पल पल पावन उन चरण की, चाह कभी भूलना नहीं।।

Lest you forget everything, never forget your parents.Never forget that their obligations are innumerable.
Worshipped many deities on earth they have, to beget you,So never hurt their pious hearts with your harshness.
Remaining hungry they themselves, fed you and raised you,Do not spit poison, on those who have given you nectar.
They have fulfilled all your desires, and loved you deeply,Fulfill all their wishes, never forget to do this.
Even if you earn millions and your parents are not made happy,Never forget that without serving them millions are like ashes.
You want your children to serve you, become a child and serve,What you do is what you get, never forget this justice.
They slept in the wet, but let you sleep in the dry,Never forget the mother’s loving eyes, and let not tears come to them.
Lovingly flowers they have strewn, along your pathNever become a thorn in the path of those who guided you.
You can buy anything with wealth,but you won’t be able to buy parents.
At all times their feet so pure, never forget to love them।

No comments: