http://i93.photobucket.com/albums/l80/bigrollerdave/flash/sign.swf" quality="high" wmode="transparent"

Saturday, July 3, 2010

ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे




तुमरे बिन हमरा कौनो नाहीं....





हमरी उलझन सुलझाओ भगवन



तुमरे बिन हमरा कौनो नाहीं....





तुम्ही हमका हो संभाले



तुम्ही हमरे रखवाले





तुमरे बिन हमरा कौनो नाहीं...





चन्दा मैं तुम ही तो भरे हो चांदनी



सूरज मैं उजाला तुम ही से



यह गगन हैं मगन, तुम ही तो दिए इसे तारे



भगवन, यह जीवन तुम ही न सवारोगे



तो क्या कोई सवारे





ओ पालनहारे ......

1 comment:

佳順佳順 said...

當一個人內心能容納兩樣相互衝突的東西,這個人便開始變得有價值了。............................................................